व्याकरण किसे कहते हैं

व्याकरण: भाषा की रीढ़ व्याकरण किसी भी भाषा के बुनियादी नियमों का समूह है जो शब्दों और वाक्यों के निर्माण, प्रयोग और अर्थ को समझने में सहायता करते हैं। यह भाषा को व्यवस्थित और सुसंगत बनाता है, जिससे लोगों को एक दूसरे के साथ प्रभावी ढंग से संवाद करने में मदद मिलती है। व्याकरण के … Read more

व्यंजन किसे कहते हैं

व्यंजन किसे कहते हैं? व्यंजन वे ध्वनियाँ हैं जिनके उच्चारण में वायु का प्रवाह मुख में किसी न किसी स्थान पर अवरोधित होता है। इन ध्वनियों को अकेले नहीं बोला जा सकता है, इन्हें उच्चारण करने के लिए स्वर की आवश्यकता होती है। व्यंजनों के प्रकार व्यंजनों को उनके उच्चारण स्थान के आधार पर चार … Read more

लिंग किसे कहते हैं

लिंग किसे कहते हैं? लिंग एक व्याकरणिक अवधारणा है जो संज्ञाओं को स्त्री, पुरुष या नपुंसक के रूप में वर्गीकृत करती है। यह वर्गीकरण किसी शब्द के जैविक लिंग पर आधारित नहीं होता है, बल्कि उस शब्द के साथ जुड़े व्याकरणिक नियमों पर आधारित होता है। हिंदी में तीन लिंग होते हैं: पुल्लिंग: यह लिंग पुरुषों … Read more

छंद किसे कहते हैं

छंद क्या है? छंद शब्द संस्कृत भाषा से आया है, जिसका अर्थ है लय या ताल। काव्य में वर्णों और मात्राओं की संख्या, उनके क्रम, और यति (विराम) के नियमों के आधार पर छंद का निर्माण होता है। छंद काव्य को सुंदर और प्रभावशाली बनाते हैं। वे भावनाओं को व्यक्त करने में सहायक होते हैं … Read more

काल किसे कहते हैं

काल क्या है? काल क्रिया के जिस रूप से किसी काम के होने या उसके करने के समय का बोध होता है उसे काल कहते हैं। क्रिया के जिस रूप से कार्य व्यापार का समय और उसके पूर्ण अथवा अपूर्ण आस्था का बोध होता हो उसे काल कहा जाता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए … Read more

स्वर किसे कहते हैं

स्वर क्या होते हैं? स्वर, हिंदी वर्णमाला के वो वर्ण होते हैं जिनका उच्चारण बिना किसी अन्य वर्ण की सहायता के किया जा सकता है। स्वर को अंग्रेजी में Vowels कहा जाता है। हिंदी में कुल 11 स्वर हैं: अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ स्वर के प्रकार: ह्रस्व स्वर: जिन … Read more

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं

पर्यायवाची शब्द: भाषा का अनमोल रत्न भाषा के विकास और विस्तार में पर्यायवाची शब्दों का महत्वपूर्ण योगदान है। ये शब्द भाषा को समृद्ध बनाते हैं और अभिव्यक्ति को प्रभावशाली बनाते हैं। तो आइए, इस पोस्ट में पर्यायवाची शब्दों की गहराई में गोता लगाते हैं और इनके बारे में रोचक जानकारी प्राप्त करते हैं। पर्यायवाची शब्द … Read more

तत्सम शब्द किसे कहते हैं

तत्सम शब्द: संस्कृत से हिंदी में आए शब्द हिंदी भाषा में कई शब्द हैं जो संस्कृत से सीधे तौर पर आए हैं। इन शब्दों को तत्सम शब्द कहा जाता है। इन शब्दों में संस्कृत के मूल रूप में कोई परिवर्तन नहीं होता है, यानि इनका उच्चारण और अर्थ दोनों संस्कृत के समान ही होते हैं। … Read more

निबंध किसे कहते हैं

निबंध किसे कहते हैं? परिभाषा: “निबंध” गद्य साहित्य की एक प्रमुख विधा है, जिसमें किसी विषय का क्रमबद्ध, सुसंगत और विचारपूर्ण वर्णन किया जाता है। यह शब्द “नि” और “बंध” से मिलकर बना है, जिसका अर्थ है “अच्छी तरह से बंधा हुआ”। निबंध में विचारों का प्रवाह सुचारू और तार्किक होता है, और भाषा सरल … Read more

बोली किसे कहते हैं

बोली: भाषा का लोकप्रिय रूप बोली भाषा का एक अनौपचारिक, क्षेत्रीय रूप है जो एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र में बोली जाती है। यह भाषा का लचीला रूप है जो स्थानीय संस्कृति और परंपराओं को दर्शाता है। बोलियां अक्सर भाषा के मानक रूप से भिन्न होती हैं, जिसमें शब्दावली, व्याकरण और उच्चारण में अंतर होता है। … Read more

मात्रा किसे कहते हैं

मात्रा क्या है? हिंदी वर्णमाला में, स्वरों के उच्चारण की अवधि को मात्रा कहा जाता है। मात्रा स्वर की ध्वनि को लंबा या छोटा करती है। मात्रा के प्रकार: हिंदी भाषा में तीन प्रकार की मात्राएं हैं: ह्रस्व मात्रा: यह मात्रा स्वर को छोटा उच्चारण करती है। ह्रस्व मात्रा के लिए कोई चिन्ह नहीं होता है। … Read more

तद्भव शब्द किसे कहते हैं

तद्भव शब्द: संस्कृत से जन्मे हिंदी के शब्द हिंदी भाषा में दो प्रकार के शब्द होते हैं: तत्सम और तद्भव। तत्सम शब्द वे हैं जो संस्कृत से हूबहू उधार लिए गए हैं, जैसे कि ‘पुस्तक’, ‘विद्यालय’, ‘आत्मा’ आदि। दूसरी ओर, तद्भव शब्द वे हैं जो संस्कृत शब्दों से विकसित हुए हैं, लेकिन समय के साथ … Read more

विशेष्य किसे कहते हैं

विशेष्य: संज्ञा की विशेषता बताने वाला शब्द विशेष्य शब्द वे होते हैं जो किसी संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं। वे संज्ञा या सर्वनाम को और अधिक स्पष्ट और विशिष्ट बनाते हैं। हिंदी व्याकरण में, विशेष्य का उपयोग विभिन्न प्रकार की जानकारी प्रदान करने के लिए किया जाता है, जैसे कि रंग, आकार, संख्या, … Read more

स्वर संधि किसे कहते हैं

स्वर संधि क्या है? स्वर संधि हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण विषय है। जब दो स्वरों का मेल होता है, तो उनके उच्चारण में कुछ परिवर्तन होता है। इस परिवर्तन को ही स्वर संधि कहते हैं। स्वर संधि के नियमों का पालन करके हम शब्दों का उच्चारण शुद्ध और सुंदर बना सकते हैं। स्वर संधि … Read more

क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

क्रिया विशेषण: क्रिया की विशेषता का वर्णन क्रिया विशेषण (Adverb) एक ऐसा शब्द है जो क्रिया, विशेषण, या दूसरे क्रिया विशेषण की विशेषता बताता है। यह क्रिया के बारे में अधिक जानकारी देता है, जैसे कि क्रिया कैसे, कब, कहाँ, कितनी बार, या किस हद तक हुई। क्रिया विशेषण के प्रकार: स्थानवाचक क्रिया विशेषण: यह क्रिया … Read more

वचन किसे कहते हैं

वचन: शब्दों की संख्या का खेल नमस्कार दोस्तों, आज हम ‘वचन’ के बारे में बात करेंगे। वचन व्याकरण में एक महत्वपूर्ण अवधारणा है जो शब्दों की संख्या को दर्शाती है। वचन के प्रकार: एकवचन: जब कोई शब्द एक व्यक्ति, वस्तु, या स्थान को दर्शाता है, तो उसे एकवचन कहते हैं। उदाहरण: लड़का, किताब, घर बहुवचन: … Read more

कारक किसे कहते हैं?

कारक किसे कहते हैं? Karak kise kahate hain हमारी हिंदी भाषा में “कारक” एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो वाक्य में सुधार करने के लिए उपयोग होता है। कारक शब्द संस्कृत शब्द “कर्तृ” से आया है, जिसका अर्थ होता है “करने वाला”। इसे वाक्य में सब्जेक्ट के कार्य को संपन्न करने के लिए प्रयोग किया … Read more

सर्वनाम किसे कहते हैं?

सर्वनाम किसे कहते हैं? सर्वनाम क्या होते हैं? सर्वनाम हिंदी व्याकरण में एक महत्वपूर्ण भाग हैं। ये शब्द हैं जो वाक्य के अन्य शब्दों की जगह लेते हैं। सर्वनाम वाक्य में व्यक्ति, स्थान, वस्तु, अवस्था, समय आदि को दर्शाने के लिए प्रयोग होते हैं। इनका मुख्य उद्देश्य वाक्य को सुंदर, सरल और अर्थपूर्ण बनाना होता … Read more

उपसर्ग किसे कहते हैं?

उपसर्ग किसे कहते हैं? Upsarg kise kahate hain नमस्ते दोस्तों! आज हम इस ब्लॉग पोस्ट में उपसर्ग के बारे में बात करेंगे। उपसर्ग हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण अंग है और हमारी भाषा को और भी सुंदर और व्यावहारिक बनाता है। इसलिए, चलिए अब हम उपसर्ग के बारे में और अधिक जानते हैं। उपसर्ग क्या … Read more

लिपि किसे कहते हैं?

लिपि किसे कहते हैं? Lipi kise kahate hain हर भाषा की एक अपनी विशेषता होती है, जिसे उस भाषा के लोग अपनी बातचीत के लिए इस्तेमाल करते हैं। इसके लिए उन्हें अक्षरों की एक विशेष श्रृंखला की आवश्यकता होती है, जिसे हम लिपि कहते हैं। लिपि एक ऐसी विशेषता है जो हमें भाषा के व्यक्तिगत … Read more