उपसर्ग और प्रत्यय किसे कहते हैं Upsarg & Pratyay kise kahate hain

उपसर्ग और प्रत्यय किसे कहते हैं? Upsarg & pratyay kise kahate hain

उपसर्ग और प्रत्यय 

उपसर्ग और प्रत्यय दोनों ही हिंदी व्याकरण एवं हिंदी भाषा के तहत विशेष भूमिका निभाते हैं । आपको बता दें की आज आप इस आर्टिकल में उपसर्ग और प्रत्यय किसे कहते हैं? इनके उपयोग और उदाहरण भी जानेंगे । और उपसर्ग एवं प्रत्यय के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतर को भी इस आर्टिकल में आप जानेंगे ।

हो सकता हैं, यह पेज बढ़ा हो जाए क्योंकि इसी एक पेज पर आपको उपसर्ग एवं प्रत्यय दोनों के संबंधी की हर जानकारी को एक साथ समेट कर बताने की कोशिश की हैं ।उपसर्ग और प्रत्यय किसे कहते हैं? Upsarg & pratyay kise kahate hain उपसर्ग और प्रत्यय

तो चलिए अब हम आपको इस पोस्ट में पहले उपसर्ग के बारे में फिर प्रत्यय को विस्तार से जानेंगे ।

उपसर्ग किसे कहते हैं? Upsarg kise kahate hain

ऐसे शब्दांश या शब्द जो किसी अन्य शब्द के पूर्व जुड़ कर उसके अर्थ में परिवर्तन लाए या उसके अर्थ में विशेषता लाए, उन्हें उपसर्ग कहते हैं । अन्य शब्दों में– शब्द के पूर्व लगने वाले शब्दांश या शब्द, जो कि शब्द के अर्थ को बदल दे, उपसर्ग होते हैं ।

उपसर्ग की परिभाषा – Upsarg ki paribhasha

परिभाषा– वह शब्द जो किसी अन्य शब्द के पूर्व जुड़ कर उसके अर्थ को बदल दें, उन्हें उपसर्ग कहते हैं ।

जैसे कि अ + मित = अमित

ऊपर के उदाहरण में उपसर्ग हैं ।

उपसर्गों को पांच तरह से वर्गीकृत किया गया है-

1. हिंदी के उपसर्ग

2. संस्कृत के उपसर्ग

3. अव्यय वाले उपसर्ग

4. संख्या वाले उपसर्ग

5. उर्दू के उपसर्ग

उपसर्ग के उदाहरण – Upsarg ke udaharan

वैसे तो बहुत से उपसर्ग के उदाहरण हमारे भंडार में है लेकिन इस आर्टिकल ले लंबाई को ध्यान में करते हुए । एवं मुख्य मुख्य उदाहरण जिससे आपको उपसर्ग के ज्ञान समझ आ सके उन्हें ही नीचे तालिका में दे रहे –

अ उपसर्ग

+मिट=अमिट
+मित=अमित
+कूत=अकूत
+थक=अथक

 

कु उपसर्ग

कु+कर्म=कुकर्म
कु+कीर्ति=कुकीर्ति
कु+जात=कुजात
कु+बुद्धि=कुबुद्धि
कु+नीति=कुनीति
कु+शासन=कुशासन

पल्लवन किसे कहते हैं

परा उपसर्ग

परा+क्रम=पराक्रम
परा+भूत=पराभूत
परा+भव=पराभव

 

अनु

अनु+सार=अनुसार
अनु+चर=अनुचर
अनु+नाद=अनुनाद

 

प्रति

प्रति+अर्पण=प्रत्यर्पण
प्रति+एक=प्रत्येक
प्रति+इक=प्रतीक
प्रति+उक्ति=प्रत्युक्ति
प्रति+कृति=प्रतिकृति

प्रत्यय किसे कहते हैं? Pratyay kise kahate hain

ऐसे शब्द जो की दूसरे शब्दों के बाद में या अन्त में जुड़कर, शब्द के अर्थ में बदलाव कर दें, उन्हें प्रत्यय कहते हैं ।

प्रत्यय शब्द का अर्थ

प्रत्यय शब्द: दो शब्दों [प्रति और अय] से मिलकर बना है । प्रति का मतलब हैैैै- साथ में, पर बाद में । और अय का मतलब है- चलने वाला । इस अनुसार प्रत्यय का मतलब हुआ “साथ में पर बाद में चलने वाला ।”

प्रत्यय की परिभाषा – Pratyay ki paribhasha

परिभाषा– वह शब्द जो किसी अन्य शब्द के पश्चात जुड़ कर उसके अर्थ को बदल दें, उन्हें प्रत्यय कहते हैं ।

जैसे कि धन  +  वान = धनवान

ऊपर के उदाहरण में वान प्रत्यय हैं ।

प्रत्यय के बारे में अन्य जानकारी

1. प्रत्यय अविकारी शब्द या शब्दांश होते हैं, जो SHABDON के बाद में जोड़े जाते है ।

2. इस का अपना मतलब नहीं होता, और न ही प्रत्यय का कोई स्वतंत्र अस्तित्व होता है ।

3. कभी–कभी इसे लगाने से सामान्य मतलब के तहत परिवर्तन या बदलाव नहीं होता है ।

4. प्रत्यय जुड़ने पर शब्द में संधि नहीं होती बल्कि अंतिम वर्ण में मिलने वाले प्रत्यय में स्वर (SWAR) की मात्रा लग जाएगी । लेकिन व्यंजन (VYANJAN) होने पर वह जैसे के जैसे ही रहता है ।

प्रत्यय के उदाहरण – Pratyay ke udaharan

आऊ

टिक+आऊ=टिकाऊ
बिक+आऊ=बिकाऊ

 

वान

धन+वान=धनवान
विद्या+वान=विद्वान
बल+वान=बलवान

 

ता प्रत्यय

उदार+ता=उदारता
सफल+ता=सफलता

संज्ञा किसे कहते हैं

वाला

गाडी+वाला=गाड़ीवाला

उपसर्ग और प्रत्यय में अंतर

उपसर्ग और प्रत्यय में कुछ अंतर (Upsarg our pratyay me antar) नीचे तालिका में बता दें हैं ।

क्र.उपसर्गप्रत्यय
1.शब्दों के आरंभ में लगने वाले शब्द जो अर्थ परिवर्तन कर दें, उपसर्ग है ।शब्दों के अंत में लगने वाले शब्द जो अर्थ परिवर्तन कर दें, प्रत्यय है ।
2.उपसर्ग शब्दारंभ में जुड़कर नए शब्द बनते हैं ।प्रत्यय शब्दांत में जुड़कर नए शब्द बनते हैं ।
3.उपसर्ग जुड़ने पर मुख्य मतलब बदल सकता है ।प्रत्यय जुड़ने पर मुख्य मतलब मूल शब्द के इर्द-गिर्द ही रहता है ।
4.उदाहरण जैसे- परा + क्रम=पराक्रम इसमें परा उपसर्ग है ।उदाहरण जैसे- सफल  +  ता = सफलता इसमें ता प्रत्यय है, जो शब्द के आखिर में जुड़ा है ।

भावार्थ किसे कहते हैं

समापन: दोस्तों आशा करते है अपने इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़ना और समझा होगा । ऐसे अन्य आर्टिकल या उपसर्ग या प्रत्यय के अन्य मुख्य उदारहरण को जानने के लिए कॉमेंट करे और हमारे बताए । हिंदी व्याकरण या अन्य नॉलेज भरे पोस्ट पढ़ने के लिए हमारे सोशल मीडिया पर फोलो करें । गूगल से हमरे वेबसाइट पर पहुंचने और ऐसे लेख पाने के लिखे हमें गूगल में hindizy खोजें ।

Leave a Comment