विराम चिन्ह किसे कहते हैं Viram Chinh Kise Kahate Hain

विराम चिन्ह किसे कहते हैं – Viram Chinh Kise Kahate Hain

आज के इस पोस्ट में जानेंगे की विराम चिन्ह किसे कहते हैं Viram Chinh Kise Kahate Hain | एवं इसके प्रकार के साथ इसके महत्व क्या हैं। विराम चिन्ह की जरूरी आवश्यकता क्यों हैं। यह सब इस संबंधित मजेदार पोस्ट में पढ़ेंगे।

विराम चिन्ह किसे कहते हैं – Viram Chinh Kise Kahate Hain

विराम चिन्ह की परिभाषा

Viram Chinh Ki Paribhasha! भित्र-भित्र तरह के विचारों और भावों को स्पष्ट करने के लिए जिन चिन्हों का उपयोग वाक्यों के मध्य अथवा अंत में किया जाएं, उन्हें विराम चिन्ह कहते है।

अन्य परिभाषा : विराम का मतलब है – रुकना या किसी जगह ठहरना। किसी वाक्य लिखते टाइम या बोलते टाइम मध्य में थोड़ी देर रखने हेतु सुलभ एवं सही जगह पर जो चिन्ह लगाए जाते हैं उन्हें हम विराम-चिन्ह बोलते हैं। एवं रुखना जरूरी इसलिए होता हैं को भाषा को स्पष्ट एवं सही भाव को पहचाना जा सके। लिखित भाषा में ठहराव को दिखाने के लिए अलग अलग प्रकार के चिन्हों को प्रयोग में लाते है। वे विराम-चिन्ह हैं।

सरल भाषा में – किसी वाक्य में अपने भावों एवं विचार या किसी प्रसंग को प्रकट करने के लिए हम जहां रखते हैं इसे विराम कहते हैं।

ऐसे विरामो को दर्शाने हेतु, जो चिन्ह उपयोग में लाए जाते हैं उन्हें विराम चिन्ह (Viram Chinh) कहते है।

आपको बतादे की यदि विराम-चिन्ह का उपयोग नही करें तो कही कही अर्थ का अनर्थ भी हो जाता है। जैसे हमने नीचे एक उदाहरण से समझने का प्रयास किया हैं।

1. रोको मत जाने दो
2. रोको, मत जाने दो ।
3. रोको मत, जाने दो ।

ऊपर बताए उदाहरण में वाक्य एक ही है लेकिन आप खुद ही देख सकते हैं को तीनो वाक्यों के अलग अलग अलग मतलब निकल रहे हैं। प्रथम वाक्य में कुछ भी स्पष्ट समझ नही आ रहा।

वही द्वितीय एवं तृतीय वाक्यों में कुछ मतलब समझ तो आ रहे है लेकिन दोनो एक दुसरे के विपरित अर्थ व्यक्त कर रहे हैं। ऐसे में समझना मुश्किल हो जाता हैं। इसलिए सही एवं सही जगह के लिए विराम चिन्हों को बनाए गया हैं।

अत: सभी चिन्हों के सही एवं सार्थक मतलब जानने के लिए हमारे इस पोस्ट में बताए कुछ विराम चिन्हों को अवश्य अंत तक पढ़ें।

विराम चिन्ह (VIRAM CHINH) की आवश्यकता

विराम का मतलब होता है ठहराना या ठहराव । व्यक्ति के जीवन में मानव शरीर दिया है। उसमें हमें कहीं ना कहीं रुकना अवश्य पड़ता है। एवम रुकना ठहरना यह मानव की सार्थकता और शुद्धता है। विराम की आवश्यकता हर किसी मनुष्य को रहती है। जब भी वह मनुष्य थक जाता है।

तो उसे आराम की चाहत होती है। और वह आराम विराम कर लेता है। आराम, विराम का ही द्वितीय नाम है। पहले विराम होता था, किंतु उसके बाद उसे आराम की संज्ञा दे दी गई। अतः यह सिद्धि है कि साधारण तय है मानव के जीवन में विराम बहुत ही आवश्यकता रखता है।

इसी तरह यदि लेखन या पढ़ने के काम में मनुष्य के जीवन में एक मानसिक अवस्था पाई जाती है। लिखते समय या पढ़ते समय हर किसी को थोड़ी ना थोड़ी देर रुकने की जरूरत होती है। उसी रुकने हेतु जैसे कि हमने ऊपर मानव के बारे में बताया उसे भी रुकने की जरूरत होती है।

उसी तरह लिखते एवं पढ़ते समय मानसिक तनाव को कम करने हेतु ऐसे स्थानों पर रखा जाता है। जहां मानव अपने सार्थक एवं सही वाक्य के अर्थ तक पहुंच सके एवं उसकी गति उसी तरह रहती है। जैसे कि वाक्य के अर्थ होते हैं यही कारण है कि लिखने के समय हम विराम चिन्हों का उपयोग करते जाते हैं।

उसी तरह लिखते एवं पढ़ते समय मानसिक तनाव को कम करने हेतु ऐसे स्थानों पर रखा जाता है। जहां मानव अपने सार्थक एवं सही वाक्य के अर्थ तक पहुंच सके एवं उसकी गति उसी तरह रहती है। जैसे कि वाक्य के अर्थ होते हैं यही कारण है कि लिखने के समय हम विराम चिन्हों का उपयोग करते जाते हैं।

और मानव के दिमाग पर ज्यादा लोड दिए बिना। ज्यादा से ज्यादा लिखावट एवं पढ़ाई दोनों ही संपन्न हो सके। यदि विशेषकर चिन्ह का उपयोग न किया जाए, तो स्पष्टता एवं अर्थ को समझने में बाधा आएगी और कठिनाई भी उत्पन्न हो सकती है।

इसलिए पाठक को भाव को सही एवं सरल रूप से समझने के लिए कुछ देर विराम हेतु। यह मुख्य के मापदंड अपनाए जाते हैं, और इसकी आवश्यकता एवं उपयोगिता दोनों ही इस हेतु महत्व रखती है।

हिन्दी के कुछ विराम चिन्ह

हिन्दी में भाषा में जिस तरह के विराम चिन्हों का प्रयोग किया जाता है अधिकतर प्रयोग किया जाता है उन्हें हम निम्न तालिका में क्रम से उन्हें बता रहे हैं एवं उन चिन्हों के नाम को हिंदी अंग्रेजी एवं उनके ने के निशान भी तालिका में सूचीबद्ध कर रहे हैं।

क्र.हिंदी नामअंग्रेजी नामचिन्ह
1.अल्प विरामComma[ , ]
2.अर्द्ध विरामSemi colon[ ; ]
3.पूर्ण विरामFull-Stop[ । ]
4.उप विरामColon[ : ]
5.विस्मयादिबोधक चिन्हSign of Inter- jection[ ! ]
6.प्रश्नवाचक चिन्हQuestion mark[ ? ]
7.कोष्ठकBracket[ () ]
8.योजक चिन्हHyphen[ – ]
9.अवतरण चिन्हInverted Comma“…”
10.लाघव चिन्हAbbre- viation sign[ o ]
11.आदेश चिन्हSign of following[ :- ]
12.रेखांकन चिन्हUnder line[ _ ]
13.लोप चिन्हMark of Omission[ … ]

अल्प विराम [ , ]

अल्पविराम के बारे में कुछ विषय जानकारी जैसे अल्पविराम किसे कहते हैं. और अल्पविराम कहां कहां लगाया जाता है. एवं अन्य सभी हम नीचे बता रहे हैं.

अल्प विराम किसे कहते हैं?

ALP VIRAM KISE KAHATE HAIN! किसी बात के मैं जहां थोड़ा रुकना हो या फिर अधिक वस्तुओं के नाम या किसी व्यक्तियों के नाम को अलग अलग करना हो उस जगह पर उनके मध्य, अल्प विराम [ , ] चिन्ह का प्रयोग किया जाता है।

अल्प का मतलब होता है थोड़ा। अल्पविराम का मतलब होता है थोड़ा विश्राम या थोड़ा रुकना। जब भी हम कोई बात करते हैं या कुछ वाक्यों को लिखते हैं। उसमें हम बहुत सी वस्तुएं या फिर बहुत सारे नामों को लेते हैं।

तो उन्हें अलग अलग करने हेतु ऐसे अल्पविराम का उपयोग किया जाता है। ताकि उस जगह पर थोड़ा विश्राम या थोड़ी देर रुक सके। एवं अर्थ और हर तरह से सही वाक्य के रूप में मतलब समझा जा सके।

हां तो अब आई है हम बीच में अल्पविराम का उपयोग कैसे करते हैं यह कुछ उदाहरण देखते हैं।

1. ज्यादा नामों को अलग करने हेतु अल्पविराम का उपयोग! जैसे
भारत के अंदर मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात जैसे कई राज्य है।

2. जब हम कोई भी संवाद लिखते हैं तो उस समय, चिन्ह का उपयोग जैसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने बोला, “तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।”

3. संवाद करते समय हां या ना के बाद अल्पविराम का उपयोग होता है। जैसे।
राहुल: राजेश, तुम बाजार जा रहे हो।
राजेश: नहीं, मैं आज बाजार नहीं जाऊंगा।

4. इसी तरह अलग-अलग संख्याओं को अलग करने हेतु अल्पविराम का उपयोग किया जाता है। जैसे: 1, 2, 3, 4, 5, 100, 500, 2000 इत्यादि।

5. किंतु, परंतु, क्योंकि, इसलिए इत्यादि शब्दों से पहले भी अल्प विराम के उपयोग देखने को मिलते हैं।

6. जब हम तारीख के साथ महीने का नाम लिखते हैं तो भी हम अल्पविराम का उपयोग करते हैं जैसे: 5, सितंबर 2021

नोट! दोस्तों अल्पविराम के बहुत सारे नियम है जिन जहां पर अल्पविराम लगाए जाते हैं यदि आप चाहते हो कि हम उन्हें भी आप तक पहुंचाएं या इस आर्टिकल को और बड़ा कर लिखे तो आप हमें नीचे अल्पविराम के इस आर्टिकल को और बढ़ाएं ऐसा लिखकर कमेंट करें।

>>> वर्णमाला किसे कहते हैं

अर्द्ध विराम [ ; ]

अर्धविराम के बारे में कुछ विशेष जानकारियां जैसे अर्धविराम किसे कहते हैं। अर्धविराम के उपयोग कहां कहां किए जाते हैं। इसी तरह के कुछ सवाल नीचे हम आपके लिए बता रहे हैं क्रम से।

अर्द्ध विराम किसे कहते हैं?

ARDH VIRAM KISE KAHATE HAIN! यह इस तरह का चिन्ह होता है, जिसमें अल्पविराम से कुछ अधिक ठहरना पड़ता है, और पूर्ण विराम की तुलना में कुछ कम ठहराव होता है। यह अल्पविराम और पूर्ण विराम के मध्य की श्रंखला है। अर्द्ध विराम का चिन्ह यह ( ; ) है।

आपको बता दें कि यदि एक वाक्य का दूसरे वाक्य से संबंध जोड़ना होता है या संबंध बताना होता है उस जगह पर दोनों वाक्य के बीच में हम अर्धविराम चिन्ह का उपयोग करते हैं।
जैसे:
1. दीपावली का त्यौहार है; खुशियों का त्योहार है।
2. बड़ी-बड़ी दो डिग्रियों या बड़े-बड़े दो उपाधियों उपाधियों के लिए अर्धविराम चिन्ह उपयोग में लाते हैं।
जैसे जैसे- एम. ए. ; बी, एड. , एम. एस-सी.; डी. एस-सी. , एम. ए.; पी. एच. डी.

पूर्ण विराम [ । ]

PURN VIRAM KISE KAHATE HAIN! पूर्ण विराम का इस्तेमाल वहां पर होता है, जब कोई बात पूरी हो जाती है या कोई वाक्य समाप्त हो जाता है. उसके बाद हम पूर्ण विराम चिन्ह [ । ] लगाते हैं। जैसे मैने खाना खा लिया हैं।

आपको बता दें कि हिंदी भाषा में पूर्ण विराम का चिन्ह का उपयोग सर्वाधिक होता है यह चिन्ह हिंदी भाषा और हिंदी में प्राचीनतम चिन्ह माना गया है.

>>> भाषा किसे कहते हैं

उप विराम [ : ]

जिस जगह पर वाक्य पूरा नहीं होता, लेकिन किसी वस्तु या विषय के संबंध में बताया जाता है, वहाँ अपूर्णविराम-चिन्ह उप विराम का उपयोग किया जाता है।
जैसे- कृष्ण भगवान के कई नाम है : मोहन, मुरलीधर, गोपाल, गिरिधर इत्यादि।

विस्मयादिबोधक चिन्ह [ ! ]

VISMYADIBODHAK CHINH KISE KAHATE HAIN! यह चिन्ह वह इस्तेमाल होता हैं जहां हर्ष, विवाद, विस्मय, घृणा, आश्रर्य, करुणा, भय जैसे बोध होते हैं।
जैसे- वाह ! आप कैसे पधारे?
हाय ! बेचारा व्यर्थ ही आया।

>>> भावार्थ किसे कहते हैं

प्रश्नवाचक चिन्ह [ ? ]

PRASHN VACHAK CHINH KISE KAHATE HAIN! ऐसे वाक्य जहां आम बातचीत से कोई बात पूछी जाती है या कोई प्रश्न पूछा जाए उसके अंत में प्रश्नवाचक चिन्ह [ ? ] या प्रश्नसूचक चिन्ह का उपयोग होता हैं।
जैसे— तुम्हे क्या पसंद है?
आपका नाम क्या है?
प्रश्नसूचक-चिन्ह का उपयोग निम्न अवस्थाओं में होता है
1. जहाँ प्रश्र पूछे जाने का बोध (BODH) हो।
जैसे- क्या आप पंजाब जाए थे?
2. जहाँ स्थिति निश्रित नही हो।
जैसे- आप शायद पंजाब के रहनेवाले है ?
3. जहाँ व्यंग्य किया जाय।
4. इस चिन्ह का उपयोग संदेह प्रकट करने के लिए भी होता है; जैसे- क्या कहा?

>>> सर्वनाम किसे कहते हैं

>>> शब्द शक्ति किसे कहते हैं

यदि आप बाकी के बारे में भी जानना एवं पढ़ना चाहते है तो कॉमेंट बॉक्स में अपने सार्थक शब्दों को लिखें।

एवं ऐसे अन्य जानकारी पाने के लिए आप मुख्य पृष्ट तक पहुंच सकते हैं। इतना ही नही आप किसी भी विषय में संबंधित लेख पाने के लिए खोज कर सकते हैं। और विराम चिन्ह किसे कहते हैं वाला यह पसंद आया हो तो कृपया दोस्तों तक भी पहुंचाएं।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.