तत्सम शब्द किसे कहते हैं

तत्सम शब्द: संस्कृत से हिंदी में आए शब्द

हिंदी भाषा में कई शब्द हैं जो संस्कृत से सीधे तौर पर आए हैं। इन शब्दों को तत्सम शब्द कहा जाता है। इन शब्दों में संस्कृत के मूल रूप में कोई परिवर्तन नहीं होता है, यानि इनका उच्चारण और अर्थ दोनों संस्कृत के समान ही होते हैं।

उदाहरण:

  • पिता (पिता)
  • माता (माता)
  • भ्राता (भाई)
  • पुत्र (पुत्र)
  • पुत्री (पुत्री)
  • गुरु (गुरु)
  • शिक्षक (शिक्षक)
  • विद्यालय (विद्यालय)
  • ज्ञान (ज्ञान)
  • प्रेम (प्रेम)

तत्सम शब्दों की विशेषताएं:

  • उच्चारण: तत्सम शब्दों का उच्चारण संस्कृत के समान होता है।
  • अर्थ: तत्सम शब्दों का अर्थ भी संस्कृत के समान होता है।
  • रूप: तत्सम शब्दों का रूप भी संस्कृत के समान होता है।
  • व्याकरण: तत्सम शब्दों का व्याकरण भी संस्कृत के समान होता है।

तत्सम शब्दों का महत्व:

तत्सम शब्द हिंदी भाषा को समृद्ध बनाते हैं। इन शब्दों के माध्यम से हम संस्कृत भाषा और संस्कृति से जुड़ सकते हैं। तत्सम शब्दों का उपयोग करके हम अपनी भाषा को अधिक प्रभावशाली और प्रभावपूर्ण बना सकते हैं।

तत्सम शब्दों के उदाहरण:

  • अग्नि (आग)
  • जल (पानी)
  • वायु (हवा)
  • पृथ्वी (धरती)
  • आकाश (आकाश)
  • सूर्य (सूर्य)
  • चंद्र (चंद्रमा)
  • नक्षत्र (तारे)
  • ग्रह (ग्रह)
  • ऋतु (ऋतु)

इसे भी पढ़ें : तद्भव शब्द किसे कहते हैं

निष्कर्ष:

तत्सम शब्द हिंदी भाषा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। इन शब्दों का उपयोग करके हम अपनी भाषा को अधिक समृद्ध और प्रभावशाली बना सकते हैं।