अभाज्य संख्या किसे कहते हैं

अभाज्य संख्या: गणित की रानीअभाज्य संख्या किसे कहते हैं | abhajya sankhya kise kahate hain

गणित की दुनिया में अनेक रोचक अवधारणाएं हैं, जिनमें से एक है “अभाज्य संख्या”। यह शब्द सुनते ही कई लोगों के मन में एक जटिल धारणा का चित्र उभरता है। लेकिन वास्तव में, अभाज्य संख्याएं समझने में उतनी जटिल नहीं हैं जितनी लगती हैं। तो आइए, इस पोस्ट में हम अभाज्य संख्याओं की परिभाषा, उनके गुणों और महत्व को सरल शब्दों में समझने का प्रयास करते हैं।

अभाज्य संख्या की परिभाषा:

1 से बड़ी प्राकृतिक संख्याएं जो केवल 1 और स्वयं से विभाजित होती हैं, उन्हें अभाज्य संख्या कहते हैं।

उदाहरण: 2, 3, 5, 7, 11, 13, 17, 19, 23, 29, 31 आदि

अभाज्य संख्याओं के गुण:

  • 1 और स्वयं के अतिरिक्त, किसी भी अन्य प्राकृतिक संख्या से अभाज्य संख्या विभाजित नहीं होती है।
  • 2 ही एकमात्र सम अभाज्य संख्या है।
  • अभाज्य संख्याओं की संख्या अनंत है।
  • अभाज्य संख्याओं का उपयोग गणित के विभिन्न क्षेत्रों में होता है, जैसे कि संख्या सिद्धांत, बीजगणित, और कूटलेखन।

अभाज्य संख्याओं का महत्व:

  • अभाज्य संख्याओं का उपयोग विभिन्न प्रकार की गणितीय समस्याओं को हल करने में किया जाता है।
  • इनका उपयोग कंप्यूटर विज्ञान में डेटा को सुरक्षित रखने के लिए भी किया जाता है।
  • अभाज्य संख्याओं का उपयोग विज्ञान और इंजीनियरिंग के विभिन्न क्षेत्रों में भी किया जाता है।

इसे भी पढ़ें : सम संख्या किसे कहते हैं

निष्कर्ष:

अभाज्य संख्याएं गणित की दुनिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इनका उपयोग विभिन्न प्रकार की गणितीय समस्याओं को हल करने, डेटा को सुरक्षित रखने और विज्ञान और इंजीनियरिंग के विभिन्न क्षेत्रों में किया जाता है।

अभ्यास:

  • निम्नलिखित संख्याओं में से कौन अभाज्य संख्याएं हैं? 12, 15, 17, 20, 23
  • 100 से कम सभी अभाज्य संख्याओं की सूची बनाएं।
  • 2 और 3 के गुणज्यों को छोड़कर 100 से कम सभी प्राकृतिक संख्याओं की सूची बनाएं।