काल किसे कहते हैं

काल क्या है?

काल क्रिया के जिस रूप से किसी काम के होने या उसके करने के समय का बोध होता है उसे काल कहते हैं। क्रिया के जिस रूप से कार्य व्यापार का समय और उसके पूर्ण अथवा अपूर्ण आस्था का बोध होता हो उसे काल कहा जाता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो काल का अर्थ होता है ‘समय’।

काल के भेद:

काल के मुख्य रूप से तीन भेद होते हैं:

  1. वर्तमान काल: जब क्रिया वर्तमान में हो रही हो, तब क्रिया को वर्तमान काल में कहा जाता है। उदाहरण: मैं लिख रहा हूँ।
  2. भूतकाल: जब क्रिया पहले ही हो चुकी हो, तब क्रिया को भूतकाल में कहा जाता है। उदाहरण: मैं लिख चुका हूँ।
  3. भविष्यत् काल: जब क्रिया आने वाले समय में होगी, तब क्रिया को भविष्यत् काल में कहा जाता है। उदाहरण: मैं लिखूंगा।

काल के उपभेद:

इन तीनों मुख्य भेदों के अलावा, काल के कुछ उपभेद भी होते हैं:

  • सामान्य वर्तमान काल: जब क्रिया नियमित रूप से वर्तमान में हो रही हो, तब क्रिया को सामान्य वर्तमान काल में कहा जाता है। उदाहरण: वह रोज सुबह व्यायाम करता है।
  • तात्कालिक वर्तमान काल: जब क्रिया इस समय हो रही हो, तब क्रिया को तात्कालिक वर्तमान काल में कहा जाता है। उदाहरण: वह अभी खाना खा रहा है।
  • पूर्ण भूतकाल: जब क्रिया पूरी तरह से हो चुकी हो, तब क्रिया को पूर्ण भूतकाल में कहा जाता है। उदाहरण: मैंने अपना काम पूरा कर लिया है।
  • अपूर्ण भूतकाल: जब क्रिया पूरी तरह से नहीं हुई हो, तब क्रिया को अपूर्ण भूतकाल में कहा जाता है। उदाहरण: मैं खाना खा रहा था।
  • सामान्य भविष्यत् काल: जब क्रिया आने वाले समय में नियमित रूप से होगी, तब क्रिया को सामान्य भविष्यत् काल में कहा जाता है। उदाहरण: मैं कल स्कूल जाऊंगा।
  • तात्कालिक भविष्यत् काल: जब क्रिया तुरंत होने वाली हो, तब क्रिया को तात्कालिक भविष्यत् काल में कहा जाता है। उदाहरण: मैं अभी जाता हूँ।

उदाहरण:

  • वर्तमान काल: मैं लिख रहा हूँ।
  • भूतकाल: मैं लिख चुका हूँ।
  • भविष्यत् काल: मैं लिखूंगा।

इसे भी पढ़े : लिंग किसे कहते हैं

निष्कर्ष:

काल का ज्ञान भाषा को समझने और बोलने में बहुत महत्वपूर्ण होता है। काल के विभिन्न भेदों और उपभेदों को समझने से हम भाषा का सही ढंग से उपयोग कर सकते हैं।