कार्य, ऊर्जा और शक्ति किसे कहते हैं

कार्य, ऊर्जा और शक्ति | Karya, Urja our Shakti

कार्य, ऊर्जा और शक्ति किसे कहते हैं क्या है, आखिर ये सब इनके बारे में आज हम जानेंगे. दोस्तो आपको यह लाभ होगा की जब आप हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ लेंगे, तब आप समस्त ज्ञान को पा लेंगे. इसके अलावा संबंधित विवरण को साथ में जानते चलेंगे.

दोस्तो हम आपको बता दें कि इन तीनो टॉपिक कार्य, ऊर्जा और शक्ति को कई लोग अलग अलग भी सर्च करते गई. इसलिए हम इन्हें एक एक करके बताने वाले है. जिससे आपको सब कुछ इसी पोस्ट में एक के बाद एक मिलता रहें.

तो अब बिना समय गंवाए; हमारे मुख्य टॉपिक में से एक कार्य किसी कहते है इसके बारे में जान लेते है. तत्पश्चात आप ऊर्जा और शक्ति किसे कहते हैं को भी आसानी से पढ़ सकते हैं.

कार्य, ऊर्जा और शक्ति किसे कहते हैं

कार्य किसे कहते हैं karya kise kahate hain in hindi

What is work in hindi; जब कोई वस्तु या पिंड पर कोई बल या भर से उसके बल या भर की दिशा में विस्थापन हो रहा है. तब उसे कार्य कहते है. अन्य शब्दों में, कोई व्यक्ति किसी पिंड पर भार लगता है और वह पिंड भार को दिशा में विस्थापित हो, तक हम बोल सकते है की वह व्यक्ति पिंड पर भार देने का कार्य कर रहा है. हम जिस दर से कार्य करते है उसे हम शक्ति कहते है. जब शक्ति का टॉपिक नीचे आएगा तब उसके बारे में विस्तार से जानेंगे.

आपको बता दें कि कार्य करने से वस्तु के अंदर ऊर्जा में परिवर्तन हो यह संभव है.

जब कोई पिंड पर या ब्लॉक पर F वाल लगाया का रहा है, वह पिंड या ब्लॉक बल की ही दिशा में d दूरी पर विस्थापित हो जाए, हम कार्य से संबद्ध में कहेंगे की ;
कार्य (Work) W=Fd
या
W=fs
इसमें; f यानी बल
S यानी विस्थापन
1] कार्य एक अदिश राशि है.
2] कार्य का मात्रक जूल है.
3] 1 जूल = 1 न्यूटन-मीटर.
4] जूल को संक्षेप में J से निरूपित करते है.

>>> जाने! दाया हाथ कोनसा हैं Daya Hath konsa hai

कार्य के प्रकार Types of work in hindi

कार्य के प्रकार नीचे दें रहे है! Krya ke prakar

  1. धनात्मक कार्य,
  2. ऋणात्मक कार्य,
  3. शून्य कार्य!

1. धनात्मक कार्य (Positive Work)

Dhanatmak karya kise kahate hain; जब किसी पिंड या ब्लॉक पर बल लगाया जाता है, और विस्थापन, बल की दिशा में बीच के कोण B का मान न्यूनतम (यानी 0 – 90° के बीच) है, तब हम बल के किया गया कार्य को धनात्मक कार्य (Positive Work) बोलेंगे.

2. ऋणात्मक कार्य (Negative Work)

Rinatmak karya kise kahate hain; जब किसी पिंड या ब्लॉक पर बल लगाया जाता है. बल F एवं बल की दिशा में हुए विस्थापन s के मध्य कोण B का मान अधिकतम (यानी 90-270° के बीच) है. तब हम बल के किया गया कार्य को ऋणात्मक कार्य (Negative Work) बोलेंगे.

3. शून्य कार्य (Zero Work)

Shunya karya kise kahate hain; जब B का मान 90° और 270° होता है तब हम बल के किया गया कार्य को शून्य कार्य (Zero Work) बोलेंगे.

>> मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक किसे कहते हैं; Matrak aur vyutpann matrak kise kahate hain

ऊर्जा किसे कहते हैं urja kise kahate hain

What is energy in hindi; ऊर्जा के बारे में भौतिकी में है की यह किसी पिंड या ब्लॉक के अंदर का एक तरह का गुण है. अलग अलग रूपों में बदली जा सकती है. इसका रूपांतरण होता है. उर्जा बदलाव बहुत आसान प्रक्रिया होती है. हम यह बोल सकते है की जब हम कोई कार्य हो करते है तो हमारे अंदर की ऊर्जा को कार्य के रूप में बदल देते गई.

यानी किसी मशीन या पुरुष या महिला द्वारा कार्य करने की जो क्षमता होती है उसे ऊर्जा कहते है. ऊर्जा का मात्रक, इसका मात्रक जूल होता है.

आपको बता दें कि जब कोई पिंड या भार ऊपर से गिरता है तब उसका ऊर्जा आ जाती है. एक अलावा भी कई उदाहरण मार्केट में है जैसे जब पानी ऊपर से पहिए पर गिरकर उसे घूमता है तो विद्युत निर्माण किया जाता है. यह ऊर्जा का ही तो रूप बदल रहा है.

ऊर्जा के प्रकार Types of energy in hindi

  • गतिज ऊर्जा
  • स्थितिज ऊर्जा
  • प्रकाश ऊर्जा
  • विद्युत ऊर्जा
  • चुम्बकी ऊर्जा
  • ऊष्मीय ऊर्जा
  • यांत्रिक ऊर्जा
  • रासायनिक ऊर्जा

>> 52 Hindi Letters ; हिन्दी के अक्षर ! Hindi Varnamala

शक्ति किसे कहते हैं Shakti kise kahate hain

राबर्ट बीरस्टीड (Robert Birstead) के अनुसार, [शक्ति बल की योग्यता है, न कि उसका वास्तविक प्रयोग.]
शक्ति किसी भी व्यक्ति के अन्य व्यक्ति की तुलना में प्रभाव है.
शक्ति या विद्युत-शक्ति या पावर (P);भौतिकी विज्ञान में विशेष महत्व रखती है, यह ऐसी दर है, जिसमे कोई कार्य हो पाता है, या उठा संचार संभव होता है. या एक नियम समय में ऊर्जा की जरूरत को हम शक्ति बोलते है.

ऊर्जा की यूनिट का टाइम से विभाजन, शक्ति की इकाई है.

राबर्ट बीरस्टीड (Robert Birstead) अनुसार; शक्ति का वर्गीकरण अलग अलग प्रकार है

राबर्ट बीरस्टीड (Robert Birstead) शक्ति को अनेक तरह से वर्गीकरण करते है:

  1. दृश्य शक्ति,
  2. अदृश्य शक्ति,
  3. औपचारिक शक्ति,
  4. अनौपचारिक शक्ति,
  5. दमनात्मक शक्ति,
  6. अदमनात्मक शक्ति,
  7. अप्रत्यक्ष शक्ति,
  8. प्रत्यक्ष शक्ति,
  9. क्षेत्रीय शक्ति,
  10. एक पक्षीय शक्ति,
  11. द्विपक्षीय शक्ति,
  12. बहुपक्षीय शक्ति,
  13. राष्ट्रीय शक्ति,
  14. अन्तर्राष्ट्रीय शक्ति,
  15. केन्द्रित शक्ति,
  16. विकेन्द्रित शक्ति,
  17. व्याप्त शक्ति!

>>> गति किसे कहते हैं; Gati kise kahate hain

समापन: यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया हमें कॉमेंट में अवश्य बताएं . जैसे की हमने ऊपर ही बताया था की इस पोस्ट को पढ़ने से आपको को लाभ होंगे. क्या आप इस कार्य ऊर्जा और शक्ति वाली पोस्ट से कोई लाभ उठा पाए वह भी हमे बताएं. इसके अलावा आप इसे दोस्तों को शेयर जरूर कर दे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.